दुनिया

ज्वालामुखी विस्फोट, भूकंप और सुनामी झेलता इंडोनेशिया

  • [By: FPIndia || Published: Dec 24, 2018 13:38 PM IST
ज्वालामुखी विस्फोट, भूकंप और सुनामी झेलता इंडोनेशिया
New Delhi: इंडोनेशिया एक बार फिर प्राकृतिक आपदा से रूबरू हुआ। ज्वालामुखी फटने के बाद आई सुनामी ने भारी तबाही मचाई। इसकी चपेट में आकर 210 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई। अनेक लोग घायल और लापता भी हुए। मौत का यह आंकड़ा बढ़ रहा है। करोड़ों की संपत्ति बेकार हो गई और लोग बेघर हो गए। हर तरफ फैली विनाशलीला को संभालने में सरकारी मशीनरी को लंबा वक्त लगेगा। जानमाल के नुकसान से पूरी दुनिया आहत हुई। भारत समेत कई देशों ने सहायता के लिए हाथ बढ़ाने को कहा। दुर्भाग्य से इंडोनेशिया ज्वालामुखी विस्फोट, भूकंप और सुनामी जैसी प्राकृतिक आपदाओं को झेलता रहा है। समूचा तंत्र तबाही से निपटने में जुट गया।  
     इंडोनेशिया की सुंडा जलसंधि के तट पर सुनामी ने अपनी दस्तक दी। वैज्ञानिकों का मानना है कि सुनामी क्रैकाटोआ की संतान कहे जाने वाले एक ज्वालामुखी में हुए विस्फोट की वजह से आई। ज्वालामुखी में पहले भी एक विस्फोट हो चुका था। सुनामी की तूफानी लहरों के आगे जो भी पड़ा वह बर्बाद हो गया। इस सुनामी में 200 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई। जो लोग घायल हुए उनका उपचार कराया गया, लेकिन अनेक लोग लापता भी हो गए। उनके घर व अन्य संपत्ति बर्बाद हो गई। तमाम टीमें बचाव व राहत कार्य में जुट गईं। बेघर हुए लोगों को आसरा देने के लिए जरूरी इंतजाम किए गए। बता दें कि इंडोनेशिया में बहुत ज्यादा भूकंप आते हैं। इसकी प्रमुख वजह यह है कि इंडोनेशिया अति सक्रिय भूकंप क्षेत्र में आता है और प्रशांत महासागर के रिंग ऑफ फायर का हिस्सा है। ज्वालामुखियों की संख्या भी यहां ज्यादा है।
     इंडोनेशिया की सुनामी से हर कोई आहत हुआ। इंडोनेशिया ज्वालामुखी विस्फोट, भूकंप और सुनामी का कहर झेलता रहा है। अक्सर ज्वालामुखी फटने से भूकंप के झटके आते हैं और समुंद्र में तेज रफ्तार वाली जानलेवा ऊंची लहरें उठतीं हैं। ताजा सुनामी से पहले 28 सितंबर, 2018 को भूकंप के बाद आई सुनामी की चपेट में आकर 2000 लोगों की मौत हो गई थी। स्थिति इतनी डरावनी होती है कि प्राकृतिक आपदाओं से त्रस्त लोग अंजाने डर में जीते हैं। 

रिलेटेड टॉपिक्स