विशेष-रक्षा

देश की सर्वोच्च अदालत की बागडोर जस्टिस गोगोई के हाथ

  • [By: FPIndia || Published: Oct 03, 2018 12:11 PM IST
देश की सर्वोच्च अदालत की बागडोर जस्टिस गोगोई के हाथ
-राष्ट्रपति ने दिलाई शपथ, 13 महीने का होगा कार्यकाल
New Delhi: देश की सर्वोच्च अदालत सुप्रीम कोर्ट की कमान जस्टिस रंजन गोगोई को मिली है। वह अब देश के नए मुख्य न्यायाधीश (सीजेआई) हैं। वह 46वें सीजेआई होंगे। राष्ट्रपति भवन में आयोजित एक समारोह में उन्होंने अपने पद की शपथ ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उन्हें शपथ दिलवाई। जिसके बाद उन्होंने अपना पद ग्रहण कर लिया। सुप्रीम कोर्ट में चल रहे कई ज्वलंत मामले अब नए मुख्य न्यायाधीश के समक्ष होंगे। जस्टिस दीपक मिश्रा का कार्यकाल 2 अक्टूबर को समाप्त हो गया। 
     बता दें कि जस्टिस दीपक मिश्रा का कार्यकाल 2 अक्टूबर को समाप्त होना था। जस्टिस रंजन गोगोई के नाम की सिफारिश नए मुख्य न्यायाधीश के लिए की गई थी। बीते दिनों राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उनकी नियुक्ति को अपनी समहति दे दी थी। राष्ट्रपति भवन में शपथ ग्रहण समारोह आयोजित किया गया। सबसे पहले राष्ट्रगान की धुन बजी। इसके बाद राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने नए मुख्य न्यायाधीश जस्टिस रंजन गोगोई को शपथ दिलाई। इसके साथ ही उन्होंने हस्ताक्षर करके पद ग्रहण कर लिया। जस्टिस रंजन गोगोई देश के 46वें मुख्य न्यायाधीश हैं और उनका कार्यकाल नवंबर 2019 तक 13 महीने का होगा। उल्लेखनीय है कि जस्टिस गोगोई एनसीआर पर सुनवाई के लिए बने स्पेशल बेंच की अध्यक्षता भी कर चुके हैं तथा कई अहम फैसलों में शामिल रहे हैं। शपथ ग्रहण समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी व अन्य प्रमुख लोग उपस्थित रहे। 
जानें जस्टिस रंजन गोगोई के बारे में-
जस्टिस गोगोई का जन्म 18 नवंबर 1954 को हुआ था।
जस्टिस गोगोई मूलतः असम के रहने वाले हैं। 
साल 1978 में उन्होंने वकालत की शुरूआत की थी।  
गुवाहाटी हाईकोर्ट में उन्होंने लंबे समय तक वकालत की। 
28 फरवरी, 2001 को वह गुवाहाटी हाईकोर्ट में परमानेंट जज की नियुक्ति हुए।
9 सितंबर, 2010 में जस्टिस गोगोई का स्थानानतरण पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट हुआ।
12 फरवरी, 2011 को उनकी नियुक्ति पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश पद पर हुई।
23 अप्रैल, 2012 को उनकी नियुक्ति सुप्रीम कोर्ट के जज के रूप में हुई।
12 जनवरी, 2018 को हुई चार जजों ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में वह शामिल रहे।

रिलेटेड टॉपिक्स