विशेष-रक्षा

जाबांज विंग कमांडर अभिनंदन पर देश को गर्व, दुश्मन को दिखाया आईना

  • [By: Shweta Pathak/Nitin Sabrangi || Published: Feb 28, 2019 14:54 PM IST
जाबांज विंग कमांडर अभिनंदन पर देश को गर्व, दुश्मन को दिखाया आईना
-दो दिन बाद अपने वतन वापस आए बहादुर अभिनंदन, पूरे देश में मना जश्न
-हिम्मत, हौंसले और आत्मविश्वास की नई मिसाल बने अभिनंदन
-न डरे, न झुके बेधड़क कहा- सॉरी मैं अधिक जानकारी नहीं दे सकता
New Delhi: सोचिए दुर्भाग्यवश देश का कोई जाबांज सैनिक अचानक कट्टर दुश्मन देश के शिकंजे में फंस जाए। हर तरफ हथियारों से घिरा हो, दुश्मन सैनिक खा जाने वाली नजरों से घूरते हुए उससे सवाल करें और यह उम्मीद भी बिल्कुल ही खो जाए कि उसके साथ अच्छा सलूक नहीं होगा। यकीनन कल्पना व अहसास करके ही रोंगटे खड़े हो जाते हैं, लेकिन हिम्मत, आत्मविश्वास, धैर्य, निर्भीकता, हौंसले और जज्बे का किताबों से जुदा कोई जीता-जागता उदाहरण देखना हो, तो भारतीय वायुसेना के बहादुर विंग कमांडर अभिनंदन में देखा जा सकता है। दुश्मन के घर संगीनों के साये में घिरकर भी जाबांज पायलट ने बिल्कुल भी हौंसला नहीं खोया। अंजाम की कतई परवाह नहीं थी लिहाजा उनके चेहरे पर चिंता और फिक्र की कोई रेखा भी नहीं थी। 
     पाकिस्तान के फाइटर विमान को मारकर पाकिस्तान के कब्जे में गए वायु सेना के विंग कमांडर न डरे, न झुके। उन्होंने पाकिस्तानियों के मुंह पर ही बेधड़क बोल दिया कि ‘सॉरी सर! मैं ज्यादा जानकारी नहीं दे सकता।’ पूरे देश ने अपने जाबांज के लिए वतन वापसी की प्रार्थना की।   भारत सरकार ने सख्त लहजे में साफ कर दिया था कि उसके पायलट को तुरंत सुरक्षित वापस किया जाए। आखिर दो दिन पाकिस्तान ने उन्हें भारत को सौंप दिया। शुरूआत में  पाकिस्तान ने उनका जो वीडियो जारी किया उसे देखकर गर्व होता है कि क्रांतिकारी देश की कोख से ऐसे हौंसले वाले वीर बेटे जन्म लेते हैं। यकीनन देश के यह हीरो करोड़ों युवाओं के लिए प्रेरणास्रोत साबित होंगे। चाय की चुस्कियों के बीच अभिनंदन का आत्मविश्वास से लबालब व्यवहार ऐसा था जैसे वह चंद बेवकूफों को जवाब दे रहे हों। उनके चेहरे पर खौफ का नाम-ओ-निशान तक नहीं था। अंदाज कुछ ऐसा था जैसे उन्हें मालूम था यही सब होगा और उन्हें बिना हिम्मत गवाएं विपरीत हालात का सामना भी करना होगा। विंग कमांडर ने वीडियो में अपने देश का सिर नहीं झुकने दिया। 
आतंकियों पर हमले से बौखलाया पाकिस्तान, यह रहा घटनाक्रम
बता दें कि 14 फरवरी को पुलवामा में हुए आंतकी हमले में 40 सीआरपीएफ जवानों की शहादत के बाद भारतीय वायुसेना के जाबांज पायलटों ने 26 फरवरी की तड़के पाकिस्तान के बालाकोट में आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख कंट्रोल रूम को एयर स्ट्राइक के जरिए ध्वस्त कर डाला था। जिसमें आतंकवादी, उनके ट्रैनर और कमांडर मारे गए। इसके बाद पाकिस्तान में दहशत का माहौल कायम हुआ और उसकी बौखलाहट भी बढ़ गई। पाकिस्तान ने सीजफायर का उल्लंघन किया और सीमापार से गोलीबारी की, जिसका भारतीय सैनिकों ने मुंहतोड़ जवाब दिया और उसकी कई चौकियों को तबाह कर दिया। 
विमान से दिखाए नापाक इरादे, तो पायलट ने दिया मुंहतोड़ जवाब
27 फरवरी को पाकिस्तान की नापाक हरकत बढ़ गई। उसके फाइटर प्लेन भारतीय वायु क्षेत्र का उल्लंघन करके सीमा में घुसे, तो अलर्ट वायुसेना ने तुरंत जवाब दिया और पाकिस्तान के फाइटर एफ-16 को मार गिराया और बाकी को वापस खदेड़ दिया। दुश्मन हमारे सैन्य अड्डों को निशाना बनाना चाहते थे। इस कार्रवाई में दुर्भाग्यवश हमारा एक फाइटर मिग-21 भी पीछा करते वक्त पाक अधिकृत कश्मीर में क्रैश हो गया और विंग कमांडर अभिनंदन दुश्मन के कब्जे में आ गए। 
दुश्मन की हिरासत में भी कतई नहीं डरे विंग कमांडर अभिनंदन 
विंग कमांडर अभिनंदन के मामले में पाकिस्तान ने अंतरराष्ट्रीय कानून का उल्लंघन किया। इसके लिए वह पूरी दुनिया के सामने खुद ही बेनकाब हुआ। कुछ वीडियो आपत्तिजनक जारी करके उसने बताया कि भारतीय पायलट उनकी हिरासत में है। जिनेवा समझौते के तहत उनके साथ किसी तरह का दुर्व्यवहार नहीं किया जाना चाहिए था, लेकिन ऐसा किया गया। भारत पर मनोवैज्ञानिक प्रभाव डालने के लिए उसने सोशल मीडिया पर ऐसा किया। खबर की पुष्टि होने के बाद भारत ने पाकिस्तान को विंग कमांडर को जिनेवा संधि व मानवाधिकार कानूनों के तहत व्यवहार कर सुरक्षित लौटाने के लिए कहा। गलती का अहसास होने पर पाकिस्तान ने रूख बदला और विंग कमांडर से पूछताछ के वीडियो जारी किए। वीडियो में विंग कमांडर ने सवालों के नपे-तुले जवाब दिए। उन्होंने पूरी हिम्मत व आत्मविश्वास से पाकिस्तानी अधिकारियों का सामना किया। रक्षा मामलों से जुड़े जानकार मानते हैं कि पाकिस्तान दुनिया को दिखाना कुछ और चाहता है और होता कुछ अलग है। पाकिस्तानी मीडिया ने भी माना कि हमारी जमीन पर गिरने के बावजूद अभिनंदन ने गजब का हौंसला दिखाया। 
विंग कमांडर अभिनंदन के साथ देश, जल्द होनी चाहिए रिहाई
तमिलनाडु में चेन्नई के नजदीक सेलायुर के रहने वाले विंग कमांडर अभिनंदन कितने साहसी हैं यह उन्होंने साबित कर दिया। उनके पिता एस. वर्ममान भी वायुसेना में एयर मार्शल रहे हैं। अभिनंदन की पत्नी भी एयर फोर्स में स्क्वाड्रन लीडर के पद पर रह चुकी हैं। उनके पाकिस्तान के कब्जे में होने पर पूरे देश में उनकी वतन वापसी की प्रार्थना की गई। जिनेवा समझौते के तहत पाकिस्तान उन्हें रिहा करने के लिए बाध्य था। इसके तहत उनके साथ अमानवीय व्यवहार, अपमानित या डराया-धमकाया नहीं जा सकता। समझौते का उल्लंघन पाकिस्तान पर बहुत भारी पड़ेगा। भारत सरकार ने भी इस पर सख्त रूख अपनाया और पाकिस्तान में भारतीय उच्चायोग ने पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय को आपत्तिपत्र (डीमार्श) दिया था, जिसमें भारतीय पायलट के सुरक्षित तथा तुरंत वापसी की मांग की गई। हालांकि भारत की कूटनीति के बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने पाकिस्तानी की संसद में भारतीय पायलट को छोड़ने की बात कही। इसके बाद ही 1 मार्च को विंग कमांडर अभिनंदन की सुख वापसी हुई। पाकिस्तान ने उन्हें भारत को सौंप दिया। भारत की जमीन पर कदम रखते ही बाघा बॉर्डर पर उनका भव्य स्वागत हुआ। 
 

रिलेटेड टॉपिक्स