लखनऊ

पुलिस की गोली से एप्पल के एरिया मैनेजर की मौत

  • [By: FPIndia || Published: Sep 29, 2018 13:50 PM IST
पुलिस की गोली से एप्पल के एरिया मैनेजर की मौत
Lucknow, (UP): उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में घटित एक घटना ने हर किसी को स्तब्ध कर दिया। पुलिस की गोली से एक्सयूवी सवार एक युवक की मौत हो गई। मृतक युवक एप्पल कंपनी में एरिया मैनेजर के पद पर नौकरी करता था। चेकिंग के लिए कार न रोकने पर एक सिपाही ने फायर झोंक दिया। इस मामले में आरोपी पुलिसकर्मियों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज करके उन्हें हिरासत में ले लिया गया। मृतक की पत्नी ने पुलिस कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से इंसाफ की मांग की। प्रदेश में होने वाले ताबड़तोड़ एनकाउंटर के बीच इस सनसनीखेज घटना के बाद पुलिस की भारी फजीहत हो गई। अधिकारी भी सकते में आ गए। घटना की जांच के लिए एसआईटी गठित कर मजिस्ट्रेटी जांच को कहा गया है। पूरे मामले पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि घटना के दोषियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। जरूरी हुआ तो सीबीआई जांच भी कराई जाएगी। 
     घटना शुक्रवार रात पॉश इलाके गोमतीनगर एरिया में हुई। रिपोर्ट्स के मुताबिक एप्पल मोबाइल कम्पनी में एरिया सेल्स मैनेजर विवेक तिवारी मोबाइल का नया मॉडल लॉन्च कराने के बाद अपनी टीम की सहयोगी सना को विभूति खण्ड स्थित आफिस से निकलकर महिंद्रा एक्सयूवी 500 कार से उसके विनयखंड-3 स्थित घर छोड़ने जा रहे थे। वह सीएमएस गोमतीनगर विस्तार के पास थे तभी बाइक सवार दो पुलिसकर्मियों ने उन्हें चेकिंग के लिए रोकना चाहा। आरोप है कि विवेक ने कार चला दी जिससे बाइक को हल्की टक्कर लग गई। इसके बाद एक कांस्टेबल प्रशांत चौधरी ने फायर कर दिया। गोली कार का शीशा तोड़ते हुए निकल गई। गोली विवेक के चेहरे पर लगी। कुछ दूर जाकर विवेक अचेत हो गए नतीजन कार एक पिलर से टकराकर रूक गई। जिसके बाद विवेक को अस्पताल ले जाया गया जहां उसकी मौत हो गई। घटना से पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। एसएसपी कलानिधि नैथानी समेत तमाम आला अधिकारी मौके पर पहुंचे। आरोपी पुलिसकर्मियों के खिलाफ धारा-302 के 
अन्तर्गत मुकदमा दर्ज करके उन्हें हिरासत में ले लिया गया। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में साफ हुआ कि विवेक की मौत पुलिस की गोली लगने व अधिक रक्तस्राव की वजह से हुई। दोनों पुलिसकर्मियों प्रशांत चौधरी व संदीप को नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया।
     घटना का पता चलने पर मृतक के परिवार में कोहराम मच गया। विवेक मूल रूप से सुल्तानपुर के रहने वाले थे और बीते चार साल से लखनऊ में अपनी पत्नी कल्पना व दो छोटी बेटियों शिवी व सानू के साथ रह रहे थे। उनके पिता बैंक मैनेजर हैं। मृतक की पत्नी कल्पना ने पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए कहा कि आखिर मेरे पति को क्यों मार दिया गया। गाड़ी न रोकने पर पुलिस को गोली चलाने का अधिकार किसने दिया। उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से न्याय की अपील की। आरोप है कि पुलिसकर्मियों ने बाइक दौड़ाकर गोली मारी। विवेक तिवारी के बहनोई विष्णु शुक्ल ने घटना की निष्पक्ष सीबीआई जांच की मांग की। उन्होंने सवाल किया कि क्या विवेक कोई आतंकी था जो पुलिस ने उसको इस तरह से गोली मार दी।मृतक की पत्नी ने भी मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर सीबीआई जांच और मुआवजे की मांग की है। पत्नी ने आरोप लगाया कि अपना जुर्म छिपाने के लिए पुलिस पति को चरित्रहीन साबित करने में जुट गई। घटना के वक्त मृतक के साथ मौजूद रही महिला कर्मचारी ने भी दोषियों को सख्त सजा की मांग की है। देर शाम पीड़ित परिवार को सरकार की तरफ से 25 लाख की मदद और सरकारी नौकरी का भरोसा दिया गया। 
‘‘यह एनकाउंटर नहीं है। घटना की पूरी जांच कराएंगे प्रथम दृष्टया जो दोषी थे उनको गिरातार किया जा चुका है और जो भी दोषी होगा किसी को बख्शा नहीं जाएगा। आवश्यकता पड़ी तो सीबीआई को भी मामला सौंपेंगे।’’
- योगी आदित्यनाथ, मुख्यमंत्री, उत्तर प्रदेश  
Follo Us-

रिलेटेड टॉपिक्स