देश-प्रदेश

चेतावनीः मारे जाएंगे कश्मीर में सेना के खिलाफ बंदूक उठाने वाले

  • [By: FPIndia || Published: Feb 20, 2019 01:48 AM IST
चेतावनीः मारे जाएंगे कश्मीर में सेना के खिलाफ बंदूक उठाने वाले
-आतंकियों के खिलाफ जारी रहेगा सेना का ऑपरेशन
New Delhi: जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले और हमले के मास्टरमाइंड आतंकी कमांडर के मारे जाने के बाद भारतीय सेना व सुरक्षाबल एक्शन मोड में रहेंगे। सेना के साफ कर दिया कि हमले में आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद पाकिस्तानी सेना और आईएसआई का हाथ रहा। सेना ने चेतावनी दी कि कश्मीर में घुसपैठ करने वाले आतंकी जिंदा नहीं बचेंगे और कश्मीर में सेना के खिलाफ हथियार उठाने वाले मार दिए जाएंगे। सेना ने महिलाओं से अपील भी की कि वह अपने बच्चों को समझाएं और उन्हें सरेंडर करने के लिए कहें। सेना के पास बेहतर समर्पण नीति है। युवा हिंसा का रास्ता छोड़कर मुख्यधारा में शामिल हों। सेना पत्थरबाजों को भी सबक सिखाएगी। मुठभेड़ के दौरान लोगों को ऐसी जगहों से दूर रहने को कहा गया है। 
     बीते 14 फरवरी को पुलवामा में सीआरपीएफ जवानों पर हुए हमले के बाद सुरक्षाबलों ने ज्वाइंट ऑपरेशन चलाया जिसमें 100 घंटे के भीतर हमले के मास्टरमाइंड आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के कमांडर कामरान व उसके साथियों को मार गिराया गया। 15वीं कोर के लेफ्टिनेंट जनरल केजीएस ढिल्लन ने जम्मू-कश्मीर पुलिस के आईजी एसपी पाणी, सीआरपीएफ के आईजी जुल्फिकार हसन ने संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस की। जनरल ढिल्लन ने कहा कि हमने पुलवामा हमले के 100 घंटे के अंदर घाटी में मौजूद जैश की लीडरशिप को खत्म कर दिया। हमले का मास्टरमाइंड आतंकी कामरान उर्फ गाजी राशिद ही था। हमले को जैश-ए-मोहम्मद ने ही अंजाम दिया। इसके पीछे पाकिस्तानी सेना व आईएसआई का भी हाथ रहा।
     जनरल ढिल्लन ने कहा कि घुसपैठ करने वाले आतंकियों को जिंदा नहीं छोड़ा जाएगा। उन्होंने कहा कि सेना के खिलाफ बंदूक उठाने वालों को मार दिया जाएगा। उन्होंने महिलाओं से अपील करते हुए कहा कि वह अपने बच्चों को समझाकर सरेंडर कराएं। सेना के पास सरेंडर करने वालों के लिए अच्छी पॉलिसी है। उन्होंने लोगों से अपील करते हुए कह दिया कि लोग मुठभेड़ वाली जगहों पर न आएं। पत्थरबाजों से भी सख्ती से निपटा जाएगा। उन्होंने कहा कि घाटी में आतंकियों के खिलाफ अभियान जारी रहेगा। गौरतलब है कि सुरक्षाबलों द्वारा बीते साल जैश के 58 आतंकियों को मार गिराया गया है इस साल भी जैश के 12 आतंकी मारे जा चुके हैं। 

रिलेटेड टॉपिक्स