अपराध

महिला जज ने रेप के दोषी को 20 दिन में सुना दी फांसी की सजा

  • [By: FPIndia || Published: Sep 01, 2018 23:02 PM IST
महिला जज ने रेप के दोषी को 20 दिन में सुना दी फांसी की सजा
Jaipur: सभ्य समाज को कलंकित करने वाली मासूम बच्चियों से दुराचार की घटनाओं पर अदालतें सख्त हैं। एक गरीब परिवार की तीन साल की एक मासूम बच्ची को अपनी हवस का शिकार बनाने वाला बलात्कारी फांसी के फंदे पर लटकेगा। राजस्थान की झुंझुनू अदालत ने दोषी युवक को सजा-ए-मौत की सजा सुनाई। अदालत ने चालान पेश होने के महज बीस दिनों में ही केस में इंसाफ करते हुए अपना फैसला सुना दिया। फैसले के वक्त बच्ची व उसके परिवार की पीड़ा को लेकर महिला जज भावुक भी हुईं।
     झुंझुनू अदालत ने 20 दिन के अंदर दुराचार के मामले में फैसला सुनाया। घटना बीते 2 अगस्त को मलसीसर थाना क्षेत्र के एक गांव में प्रकाश में आयी। प्रकाश में आयी। तीन साल की मासूम लड़की झुंझुनू में अपनी नानी के घर रह रही थी। वह घर में अकेली थी और उसकी नानी पड़ोस में गई थी हुई थी तभी उस पर फेरी लगाकर बर्तन बेचने वाले विनोद की नजर उस पर पड़ी। बच्ची को अकेला पाकर उसके सिर पर हैवानियत का भूत सवार हो गया। उसके बच्ची को अपने कब्जे में लेकर उसके साथ गलत काम किया। बच्ची की नानी पहुंची तो वह लहूलुहान हुई बच्ची को उसके हाल पर छोड़कर भाग गया। उसकी बाइक भी मौके पर ही छूट गई। मुकदमा दर्ज होने के बाद पुलिस ने विशेष टीम गठित की और दौसा जिले के अलीपुर तन महरिया निवासी आरोपी विनोद कुमार बंजारा को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। वह गांव-गांव फेरी लगाकर बर्तन बेचने का काम करता था। पुलिस ने इस मामले में सख्त कार्रवाई करते हुए दो सप्ताह से पहले से अदालत में आरोप पत्र दाखिल किया। सुनवाई के दौरान आरोपी के खिलाफ 19 गवाह पेश हुए और उसके खिलाफ 35 दस्तावेजी साक्ष्य थे। अदालत ने विनोद को दोषी पाया और न्यायाधीश नीरजा दाधीच ने आरोपी को फांसी की सजा सुनाई। अदालत ने साफ कहा कि आरोपी के प्रति नरमी अपनाने का कोई कारण नहीं है।  

रिलेटेड टॉपिक्स