अपराध

इंसाफः फांसी पर लटकेंगे मासूम बच्ची के हैवान बलात्कारी

  • [By: FPIndia || Published: Aug 21, 2018 22:56 PM IST
इंसाफः फांसी पर लटकेंगे मासूम बच्ची के हैवान बलात्कारी
Bhopal, (MP): मध्य प्रदेश के मंदसौर में आठ साल की मासूम बालिका से निर्भया जैसी दरिंदगी करने वाले हैवानों को उनके किये की सजा मिल गई। पॉक्सो एक्ट की विशेष अदालत ने दोनों आरोपी दरिंदों को मौत की सजा सुना दी। दोनों को अंतिम सांस तक फांसी के फंदे पर लटकाया जाएगा। आरोपियों आसिफ व इरफान पर 20-20 हजार का जुर्माना भी लगाया गया। खास बात यह है कि अदालत ने दो महीने से भी कम वक्त में इंसाफ कर दिया। सजा के बाद आरोपियों के चेहरे पर मौत का खौफ दिखने लगा अब सलाखों के पीछे वह अपनी मौत का इंतजार करेंगे। इस चर्चित कांड में आरोपियों को लेकर लोगों में भारी गुस्सा था और वह घटना के सामने आने के बाद से ही उन्हें फांसी दिए जाने की मांग कर रहे थे। 
हैवानों ने दिया था दिल दहलाने वाली घटना को अंजाम
उल्लेखनीय है कि मध्य प्रदेश के मंदसौर में 26 जून, 2018 की शॉम आठ साल की एक मासूम बच्ची का स्कूल से घर लौटने वक्त अपहरण कर लिया गया था। अपहरण करने वाला इरफान उर्फ भय्यू खान उसे सुनसान जगह पर ले गया और वहां अपने दूसरे साथी आसिफ को फोन करके बुलाया। दोनों ने बच्ची के साथ दुराचार किया। बच्ची बेहोश हो गई। उसके गले पर चाकू से वार किया गया। जिसके बाद वह उसे झाड़ियों में फेंककर चले गए। बच्ची की गर्दन, चेहरे और निजी भागों में गंभीर चोटे आईं। शरीर पर दांतों के निशान थे। उसकी गर्दन पर सात टांके आए। बालिका के साथ हुई दरिंदगी से चिकित्सक व पुलिस भी दहल गई थी। बच्ची का अपना शिकार बनाने वाले दोनों आरोपियों इरफान व आसिफ से पुलिस ने 48 घंटे में गिरफ्तार करके सिलसिलेवार पूछताछ की और उन्हें रिमांड पर लिया। आरोपियों के हवाले से पुलिस ने बताया कि इरफान आवारागर्दी कर रहा था तभी उसकी नजर स्कूल के बाहर अकेली खड़ी बच्ची पर पड़ी। इरफान लड़की के पास गया और उसे मिठाई खिलाने का लालच देकर अपने साथ लेकर चल दिया। इरफान ने सोचा था कि यदि कोई रास्ते में पूछेगा, तो वह बता देगा कि लड़की को उसके घर छोड़ने के लिए जा रहा है। घटना ने लोगों को हिलाकर रख दिया था और वह सड़कों पर उतर आए थे।
अदालत ने किया इंसाफ से बेचैन हो गए दरिंदों के चेहरे
दिल दहलाने वाली घटना में 30 जुलाई से ही सुनवाई शुरू हो गई थी। अभियोजन ने करीब 37 गवाहों को पेश किया था। 14 अगस्त को अंतिम बहस हुई थी। पॉक्सो एक्ट की विशेष अदालत ने महज 55 दिन में ही इंसाफ कर दिया। दोनों दरिंदों आसिफ और इरफान को मौत की सजा सुनाई। अदालत ने भारतीय दंड संहिता की धारा 363 में दोनों को 7-7 साल की सजा, 10-10 हजार जुर्माना, 366 में 10-10 साल की सजा व 10-10 हजार का जुर्माना, धारा 307 में आजीवन कारावास तथा 376(क) बी में दोनों आरोपितों को फांसी की सजा सुनाई। सजा के बाद में दोनों दोषियों को जेल ले जाया गया। सजा के सुनते ही आरोपियों के चेहरे बेचैन हो गए।

रिलेटेड टॉपिक्स